कौन है शालिनी दुबे, क्या है मसूद अज़हर कनेक्शन, सुनकर दंग रह जाएंगे | Who is Shalini Dubey

जैश-ए-मोहम्मद के सरगना अजहर मसूद को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित किये जाने के बाद लोगों के मन में जरूर ये सवाल आया होगा कि आखिर इस कूटनीति के पीछे सबसे बड़ा दिमाग किसका था. तो क्या इसके पीछे मीडिया से बचने वाली एक लड़की का दिमाग है, जिसकी उम्र 24 साल से भी कम है. इसका जवाब आपको आसानी से मिल जाएगा, जब आप जान जाएंगे कि शालिनी दुबे आखिर है कौन. भारत में ये नाम भले ही बहुत पहचाना न जाता हो लेकिन अमेरिका में शालिनी की गिनती शक्तिशाली महिलाओं में होती है. शालिनी का इंडिया कनेक्शन भी आपको बता दें. वैसे तो वाशिंगटन में जन्मी शालिनी एक अमेरिकी नागरिक हैं लेकिन उसका मूलतः ताल्लुक उत्तर प्रदेश के कानपुर से है. उसके पिता आईएफएस राम शरण दुबे ने अमेरिकी महिला से शादी की थी. उसकी मां क्रिस्टीना गेट्स दुनिया के सबसे रईस व्यक्ति बिल गेट्स के चचेरी बहन हैं.

वाट्स नॉलेज के अनुसार शालिनी की प्रारंभिक शिक्षा अमेरिका के ‘जेम्स वुड हाइस्कूल में हुई, अपनी उच्च शिक्षा के लिए उन्होंने मात्र 14 वर्ष की आयु में आईआईटी में विदेशी कोटे के तहत प्रवेश लिया. लेकिंन बिना कोर्स पूरा किये आइआइटी की पढ़ाई छोड़ दी. आज शालिनी वो हस्ती है, जिसे दुनिया के चार प्रमुख विश्वविद्यालयों ने सम्मान के रूप डॉक्टरेट की उपाधि दी हैं. आइआइटी छोड़ने के बाद शालिनी ने 16 साल की उम्र में अपनी खुद की सुपर मार्केट सीरीज स्टार्ट की लेकिन फ्लॉप हुई तो तीन हज़ार डॉलर में इसे वालमार्ट को बेच दिया. फिर शुरू हुआ नौकरी के लिए संघर्ष. हिंदी बायोग्राफी के अनुसार वो नौकरी के लिए याहू गयी लेकिन कम उम्र का मज़ाक बनाकर उसे वहां से भगा दिया गया. फिर उसने अपनी कंपनी बेचने से मिले पैसे को एक वीपीएन कम्पनी में लगा दिया. यहीं से शालिनी के सफलता की शुरुआत हुई, जो अबतक जारी है. शालिनी दुबे दुनिया के बड़े ब्रांड काल्विन क्लीन (Calvin Klien) 31 परसेंट की साइलेंट पार्टनर है. शालिनी दुनिया की सबसे नामी कंपनियों में से एक वीज़ा (Visa) की भी साइलेंट पार्टनर है. इतना ही नहीं चश्मे के बड़े ब्रांड रेबैन (Rayban) और हवाईजहाज की बड़ी कंपनी बोईंग (Boing) समेत कई नामी-गिरामी कंपनियों की शालिनी साइलेंट पार्टनर है. एक अनुमान के अनुसार चौबीस साल से भी कम उम्र में शालिनी 24000 करोड़ रूपये से भी ज़्यादा संपत्ति की मालकिन है. इंडिया ईपे के अनुसार उसके पास उसके खुद के दो प्राइवेट जेट हैं.
शालिनी के व्यवहार से लगता है कि उसको सेलेब्रिटी बनने का कतई शौक नहीं है और न ही वह लाइमलाइट में आना चाहती है. 2013 में उसने फोर्ब्स मैगज़ीन पर केवल इसलिए केस कर दिया था क्योंकि उसने बिना इजाजत उसकी संपत्ति छाप दी थी. कोर्ट ने भी फैसला दिया कि वह अपनी खबरों को मीडिया को छापने को मना कर सकतीं हैं. यही वजह हैं कि शालिनी के बारे में आपको ज़्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं होंगी. हालांकि कि कई भारतीय वेबसाइट्स में शालिनी के ब्वॉयफ्रेंड और अन्य जानकारियाँ भी उपलब्ध हैं लेकिन हम किसी की निजता का सम्मान करते हुए उसका यहाँ उल्लेख नहीं कर रहे हैं. बिजनेस के अलावा शालिनी को एक बड़ा कूटनीतिज्ञ माना जाता है. यही वजह है कि शालिनी अमेरिका के व्हाइट हाउस और उसी जुड़ी कई अहम संस्थाओं में प्रमुख पद पर रह चुकी है और अब भी काम कर रही है.
शालिनी अबतक तकरीबन 50 बड़ी कंपनियो का लोगो रिडिजाइन कर चुकीं हैं, जिसमें एडिडास, सैमसंग, फेसबुक सहित तमाम कम्पनियां शामिल हैं. इसके लिए वो भारी भरकम रकम लेती है. लेकिन कम्पनियां शौक से इसे खर्चा करने को तैयार रहती हैं क्योंकि शालिनी को अमेरिकी कॉर्पोरेट दुनिया में लकी चार्म माना जाता है. वो हर साल बच्चों के लिए लगभग 2000 करोड़ दान करती है, 31 बच्चे गोद ले रखे हैं . उसके ज्ञान का स्तर इस बात से समझा जा सकता है कि उसे 31 भाषाओं की समझ है. ज़ाहिर है उसमें हिंदी भी एक होगी.
शालिनी आतंकवादी की एक प्रबल विरोधी है और उसकी उसकी एक बड़ी वजह भी है. दरअसल मुंबई में हुए 26/11 के हमले में ताज होटल उसकी बहन मारी गयी थी. इस्लामी जेहादी उसे अपना दुश्मन समझते हैं, इसी वजह से उसके साथ 18 सशस्त्र बॉडीगार्ड रहते हैं. अमेरिका भी उसे कड़ी सुरक्षा उपलब्ध कराता है, जिस पर हर साल करीब 10 करोड़ का खर्चा बताया जाता है. कुछ समय पहले शालिनी ने याहू से शेयर खरीदे और कम्पनी 13वीं सबसे बड़ी शेयरधारक बन गयी. डील साइन करते वक्त उसने लिखा, ‘मैंने अपने शांत अपमान का बदला शांत अपमान से ही लिया.’