ख्वाबों में जब मैं पाकिस्तान गयी रे… बजरंगी भाईजान के मुकाबले घटिया पाकिस्तानी फ़िल्म काफ कंगना

लखनऊ। आपको बजरंगी भाईजान फ़िल्म याद होगी। इसमें एक पाकिस्तानी बच्ची भारत में फंस जाती है। तो उसको पाकिस्तान वापस पहुंचाने के लिए वो बजरंग बली का भक्त अपनी मंगेतर, परिवार और सबकुछ छोड़कर जान की बाज़ी लगाकर पाकिस्तान गया और उस बच्ची को उसके घर पहुंचा कर हीरो की तरह घर लौट आया।


अब पाकिस्तान की फ़िल्म काफ कंगना के बारे में सुनिए। हकीकत ये है भारत के खिलाफ प्रोपोगंडा के तहत ये फ़िल्म पाकिस्तान आर्मी ने खुद बनवाई है। ये कोई देशभक्ति की फ़िल्म नही बल्कि इसमें पाकिस्तान के पुरुषों की घटिया मानसिकता का चित्रण किया गया है। इसका एक अश्लील डांस नंबर “ख्वाबों में जब मैं पाकिस्तान गई रे, इंडिया में बोले साडी जान गई रे” सुन कर शर्म से नज़र झुक जाएगी कि अगर कोई लड़की पाकिस्तान पहुंच जाए तो वहां के पुरुष कितने चरित्रहीन हैं और वो उसे किस गंदी नज़र देखेंगे।
फ़िल्म ‘काफ कंगना’ के इस अश्लील और डबल मीनिंग वाला आइटम नंबर पर एक्ट्रेस नीलम मुनीर खान खुद सोशल मीडिया पर लिख रही हैं, ‘ये ISPR का प्रोजेक्ट था इसलिए मैंने इस गाने पर काम किया. ये मेरी जिंदगी का पहला और आखिरी आइटम नंबर है।’ ISPR पाकिस्तान सेना का प्रचार विभाग है। इस गाने को सुनकर मन में ये सवाल आ रहा है कि क्या भारत से मुकाबले के लिए पाकिस्तान सेना कोठा खोलेगी।