परेशानी का रोना रोने वालों को प्रांजल यादव के बारे में ज़रूर बताएं | First Visually Challenged IAS Pranjal Patil

तिरुवनंतपुरम। जब कोई समस्याओं को दुखड़ा रोये तो उसे प्रांजल पाटिल के बारे में ज़रूर बताइएगा। प्रांजल देश की पहली नेत्रहीन महिला आईएएस हैं। प्रांजल ने सोमवार को तिरुवनंतपुरम में सब कलेक्‍टर का पद संभाला।

इस मौके पर प्रांजल ने कहा कि मुझे जिम्मेदारी संभालते हुए बहुत अच्छा लग रहा है। मैं अपने काम के दौरान जिले को ज्यादा जानने की कोशिश करूंगी और इसकी बेहतरी के लिए योजना बनाऊंगी।
महाराष्‍ट्र के उल्‍हासनगर की रहने वाली प्रांजल ने 2016 में यूपीएससी क्वालिफाई किया था।तब उन्हें सात सौ तिहत्तरवीं रैंक मिली थी। फिर प्रांजल ने 2017 में अपनी रैंक में सुधार किया और एक सौ चौबीसवीं रैंक हासिल की। ट्रेनिंग के बाद प्रांजल ने 2017 में केरल के एर्नाकुलम के असिस्टेंट कलेक्‍टर के रूप में अपने प्रशासनिक करियर की शुरुआत की। प्रांजल ने बताया, उनकी आंखों की रोशनी छह साल की उम्र में चली गई थी। उन्होंने उम्मीद नहीं छोड़ी और अपना ग्रेजुएशन राजनीति विज्ञान में किया। इसके बाद जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी से इंटरनेशनल रिलेशंस में पोस्ट ग्रेजुएशन किया। उन्होंने कहा कि हमें कभी हार नहीं माननी चाहिए, क्योंकि हमारे किए गए प्रयास ही हमें कामयाब बनाते हैं।